Essay On Mobile Phone In Hindi Wikipedia

No – they help independent study

"You'll have someone's eye out with that" used to be the refrain of teachers in my day. In malevolent hands, a pencil, a rubber, even a piece of paper could become a lethal weapon in class, and that's before we got on to compasses and Bunsen burners.

A mobile is the same: a potentially potent tool for learning but strangely feared in a school pupil's hand, where it is assumed to wreak havoc with concentration, unleash cyber bullying and surreptitiously video up teachers' skirts.

But isn't it also madness when schools that cannot afford modern IT facilities ignore the powerful computers in every pupils' pocket?

I was amazed when I visited my old school recently: having remarked how sorry I felt for teachers in the mobile era, several teachers immediately declared how useful they were in class. There's even an acronym for it: BYOD, or Bring Your Own Device. As one teacher has argued in the Guardian, this is the future: students using their trusted devices rather than a machine they leave in school at the end of each day.

Jo Debens, a geography teacher at Priory School, Portsmouth, a comprehensive with a mixed intake, was dashing out to take 30 pupils orienteering when we spoke: her students were testing whether it was easier to use an OS map or a mobile phone's mapping services.

Earlier this year, the school drew up a "mobile device policy" in consultation with students. Mobile phones are allowed in school and used in class at the teacher's discretion, with a clear system of sanctions applied for misuse. Since the policy was introduced, only 1.4% of negative behavioural incidents have been connected with mobiles.

Pupils record homework tasks on their phone's calendar (why do they forget homework diaries but never their textbooks?) and in Debens's geography classes they use the camera function to record things and report back to class. They also use mobile internet for independent research.

"We're always being told as teachers that we should give pupils differentiated learning and personalise it. Now they can," says Debens of using mobiles. "Like anything, it's only useful in the hands of the user. They are not the be-all and end-all. We would have death by Wikipedia if all people were doing was cutting and pasting from them."

"I was very anti phones," admits Nasim Jahangir, a business and economics teacher at Wyggeston and Queen Elizabeth I College, Leicester. Several years ago, however, she incorporated smartphones into lessons as she "learned to teach in a different way" – with an emphasis on independent study. She admits it is probably easier to ensure his A-level classes use phones constructively but she thinks it has improved behaviour. "The whole atmosphere in the class has changed," she says, becoming less adversarial, with students policing themselves over inappropriate phone use.

What about pupils who cannot afford a smartphone? And what about children running up big bills doing school work on their phones? Jahangir ensures his tweeting and mobile phone work is accessible to all on the school's intranet. Debens says her school provides Wi-Fi and portable dongles with Wi-Fi so pupils are not paying for their own study. "We have people who come to school without a coat or without having had any breakfast," she says, "but they always have a phone." Patrick Barkham

Yes – they cause disruption and distress

Mobiles are the curse of the modern age – in restaurants, on trains and, most of all, in schools. Pupils are texting when they should be working; they use social networking sites to bully fellow pupils; and they post pictures of their teachers on YouTube. Ian Fenn, head of Burnage Media Arts College in Manchester, had had enough. "Mobiles rather crept up on education and in our experience it was a nightmare," he says. Fenn has banned pupils from making calls or sending texts on school premises and, according to the Daily Mail, the results in terms of improved behaviour and reduced cyberbullying have been dramatic.

Mobiles in schools is one of many issues over which the Mail obsesses, but that doesn't mean a ban is wrong. Indeed, in May an online poll in the Guardian produced a three-to-one vote in favour of a ban. The poll was prompted by a statement by Sir Michael Wilshaw, the new chief inspector of schools and head of Ofsted, that mobiles in schools were disruptive. When he was head of Mossbourne Academy in Hackney, east London, he banned them and said the decision produced immediate benefits.

Ofsted has supported Fenn's decision, but it admits , despite Wilshaw's views, it has no powers itself to impose a ban. "The issue is for schools to manage," says a spokeswoman. There is, in effect, a policy vacuum, with each school being left to decide best practice.

"We introduced a complete ban on mobile phones two years ago because of the disruption they were causing," says a spokeswoman for Cockshut Hill Technology College in Yardley, east Birmingham, "and it has improved behaviour. If pupils want to bring them in because of parents' fears for their safety getting to and from school, we provide lockers where they can be kept. But if we see them in school, we confiscate them. If they're confiscated three times, parents have to come and sign for them." The legality of similar schemes elsewhere has been challenged, but the spokeswoman insists parents and pupils have accepted the policy and that it has produced a much better learning environment.

Teachers union the NASUWT supports a classroom ban. In a recent survey, 46% of its members identified mobiles as a cause of disruption and indiscipline, and the union is particularly worried by pupils taking photographs in lessons and posting material on YouTube and social networking sites. NASUWT general secretary Chris Keates has said such material causes teachers "untold distress and trauma".

A recent report by the Scottish government concluded that mobiles were a "frequent and distracting influence", with cyberbullying especially prevalent. "Mobile phones in the classroom can be disruptive," says a spokesman for teachers union the Educational Institute of Scotland (EIS), "and their use should be the subject of an explicit school policy. While we understand parents might want their children to have mobiles with them because of concerns about safety, we don't see any reason for them to be in classrooms. An outright ban is very difficult and wouldn't gain parental support, but they need to be turned off during teaching time."

The EIS says that sometimes the rules are fuzzy, which is where arguments over confiscation occur. But the spokesman adds that the rash of "happy slapping" incidents a couple of years ago forced local authorities to confront the issue, and gradually a consensus is emerging. That consensus is that classrooms are for teaching not texting, and if the rules are clear parents will accept temporary confiscation. Stephen Moss

• This article was amended on 28 November 2012. One of the teachers was mistakenly referred to as he rather than she.

मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान Advantages and Disadvantages of Mobile Phones in Hindi

क्या आप मोबाइल फ़ोन का उपयोग करते हैं ?
क्या आप अपने मोबाइल फ़ोन के बिना एक सेकंड भी नहीं रह सकते ?
क्या आप प्रतिदिन 6-10 घंटा मोबाइल फ़ोन पर इन्टरनेट का उपयोग करते हैं?

अगर हाँ, तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही जरूरी है जिससे की आप मोबाइल फ़ोन के सुविधा असुविधा(Advantages and Disadvantages of Mobile Phones in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

आज के दिन ऐसा शायद ही कोई होगा जिसके पास मोबाइल फ़ोन ना हो। हर किसी व्यक्ति के पास मोबाइल फ़ोन होना एक आम बात है क्योंकि मनुष्य इसका आदि हो चूका है।

पर हमें मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल करते-करते यह भी ध्यान रखना पड़ेगा कि मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान क्या-क्या हैं। मोबाइल फ़ोन ने मनुष्य के एक दुसरे से जुड़ने के तरीके को पूरी तरीके से बदल डाला है।

मोबाइल फ़ोन के ना होने पर आज का मनुष्य एक सेकंड के लिए भी अपना कार्य पूर्ण नहीं कर सकता। मोबाइल फ़ोन से आप कॉल कर सकते हैं, मेसेज भेज सकते हैं, ईमेल पढ़ सकते हैं, कई प्रकार के डाक्यूमेंट् पढ़ और लिख सकते हैं और साथ ही हम सोच भी नहीं सकते आज के मोबाइल फ़ोन में हम क्या-क्या कर सकते हैं।

सही नज़रिए से अगर हम सोचें मोबाइल फ़ोन मनुष्य द्वारा और मनुष्य के लिए अभूतपूर्व अविष्कार है। लेकिन हर कोई यह बात तो जानता ही है कि इस पृथ्वी में जिस भी चीज से मनुष्य को लाभ होता है उसी चीज से हानि भी। चलिए मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान(Advantages and Disadvantages of Mobile Phones in Hindi) के बारे में कुछ चर्चा करें।

मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान Advantages and Disadvantages of Mobile Phones in Hindi

मोबाइल फ़ोन के फायदे : Benefitsof Mobile Phones in Hindi

चलिए पहले मोबाइल फ़ोन के फायदों के बारे में कुछ बताते हैं। वैसे तो मोबाइल फ़ोन नें मनुष्य के जीवन को पूरी तरीके से आसान बना दिया है! कैसे चलिए देखते हैं।

1. आसान संचार Easy Communication Device Hindi

हर किसी व्यक्ति के पास सस्ता हो या महंगा, छोटा हो या बड़ा किसी न किसी प्रकार का एक मोबाइल फ़ोन तो आज के दिन होता ही है। पहली बात हो यह है कि आप आसानी से मोबाइल फ़ोन को कहीं भी ले जा सकते है। आप कुछ ही सेकंडों में आसानी से अपने मीलों दूर के प्रियजनों से बात कर सकते है। आप इसका उपयोग तब तक कर सकते है जब तक आपके मोबाइल फ़ोन में नेटवर्क सिग्नल आ रहा हो।

2. नयी टेक्नोलॉजी या सोशल मीडिया वेबसाइट से जुड़ें Ease Connection with New Technology and Social Media Hindi

आज के दिन में मोबाइल फ़ोन मात्र एक मोबाइल फ़ोन नहीं रहा। हर दिन मोबाइल फ़ोन टेक्नोलॉजी में कुछ ना कुछ अपग्रेड(Upgrade) किया जा रहा है। आज के एक साधारण स्मार्टफ़ोन में आप आसानी से फोटो ले सकते हैं, गाने या विडियो का आनंद ले सकते हैं, ईमेल भेज सकते हैं, इन्टरनेट की मदद से सभी प्रकार की जानकारियों के बारे में जान सकते हैं।

नेविगेशन आप्शन की मदद से आप बिना कोई रास्ता खोये अपने निर्धारित स्थान तक पहुँच सकते हैं। ऐसे और भी लाखों ऐसे कार्य हैं जो आप अपने मोबाइल फ़ोन से कर सकते हैं। हम मोबाइल फ़ोन को एक छोटा छोटा कंप्यूटर भी कह सकते हैं। आप इन्टरनेट के ज़रिये सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर अपने मित्रों से बात कर सकते हैं।

3. व्यापार में बढ़ावा Help in Business

मोबाइल फ़ोन बहुत ही मददगार साबित हुई हैं व्यापार के क्षेत्र में। इसकी मदद से आप अपने कंपनी के कर्मचारियों से आसानी से संपर्क रख सकते हैं। अपने कर्मचारियों की पूरी जानकारी मतलब अपने व्यापार की भी पूरी जानकारी। आप अपने देश में बैठ कर दूर देशों में बैठे कंपनियों के साथ डील कर सकते हैं। इससे आपको अपने व्यापर को जानने में भी आसानी होगी और व्यापार में भी बढ़ावा भी मिलेगा।

4. लोगों की शुरक्षा और क़ानूनी बातों में मदद For security Purpose

आज के दिन में कई अपराधिक गतिविधियाँ हो रहीं हैं। मोबाइल फ़ोन में GPS के द्वारा किसी भी मोबाइल फ़ोन की स्तिथि कंप्यूटर से ट्रैक किया जा सकता है। पुलिस भी मोबाइल फ़ोन में हुए बात-चित या संचार के सभी फ़ोन नंबर या मेसेज के रिकॉर्ड से आसानी से बहुत सारी क़ानूनी गतिविधियों को रोका चुकी है।

सिर्फ पुलिस या सेना बल ही नहीं बल्कि माता-पिता भी अपने बच्चों को मोबाइल फ़ोन साथ रखने के लिए देते है जिससे कि वह अपने बच्चों की सुरक्षा के मामले में निश्चिंत रह सकें और सतर्क भी रहते हैं। latest news for mobile technology

5. फैशन का पहला नाम A New Fashion

जी हाँ ! आप ने सही सुना, मोबाइल फ़ोन आज के युग में फैशन का पहला नाम है। जिसके हाथ में देखो मोबाइल फ़ोन आप देख सकते हैं चाहे उसकी जरूरत उन्हें हो या नहीं, खासकर की युवाओं में।

6. आपातकाल में मदद Helpful in Emergency Hindi

सोचिये की आप कहीं किसी असुविधा में फंस गएँ हैं। असुविधा कई प्रकार की हो सकती हैं। जैसे आपके गाड़ी की दुर्घटना हो गयी हो, और आपको अपने घर वालों से बात करना हो। या फिल आप अपना रास्ता भटक गएँ हों।

हो सकता है आपका तबियत बहुत ख़राब है और आपको जल्द से जल्द डॉक्टर की जरूरत हो, उस समय भी आप को मोबाइल फ़ोन की जरूरत है। अगर हम इस तरह के आपातकालीन उद्धरण सोचें तो कई हो सकतीं है इसलिए घर से बहार निकलते समय मोबाइल फ़ोन जरूर अपने साथ रखें।

मोबाइल फ़ोन के नुकसान : Bad Effects of using Mobile Phones in Hindi

मैं सोचता हूँ निचे दिए गए मोबाइल फ़ोन के नुकसान या दुष्प्रभावों के विषय में जानने के बाद आपके मोबाइल उपयोग के समय में जरूर 50% का गिरावट आएगी। news in mobile technology

प्रोफेसर Kenneth J. Rothman(विश्व के एक प्रमुख महामारीविदों) का कहना है :

Within only a few years a substantial proportion of the world’s population has adopted a new technology that involves placing a small radio transmitter up against the head, in some instances for hours a day
केवल कुछ ही वर्षों के भीतर दुनिया की एक बड़ी आबादी ने एक नए तकनीक को अपनाया है, जो की सिरहाने के पास एक छोटा रेडियो ट्रांसमीटर है, प्रतिदिन कुछ घंटों के लिए।

कुछ सालों में मोबाइल फ़ोन की मांग पुरे विश्व भर में बढ़ते चले जा रहा है। एक रिसर्च के अनुसार निचे दिए गए ग्राफ के आंकड़ों पर अगर हम नज़र डालें तो भारत में साल 2013 के मुकाबले 2015 में 114 करोड़ मोबाइल फ़ोन उपयोगकर्ताओं में इजाफा हुआ है। साथ ही यह भी अनुमान लगाया गया है कि साल 2019 तक 2016 के मुकाबले मोबाइल फ़ोन उपयोगकर्ताओं में 175 करोड़ की बढ़ोतरी होगी। telephone survey

1. बार-बार की परेशानी देने वाला यंत्र All time Disturbing Machine

आप सभी लोगों नें मोबाइल फ़ोन की यह बात तो देखि ही होगी जब आप अपने व्यापार से संबंधी किसी मीटिंग में हों और आपका फ़ोन बज उठे। ऐसे समय में आपका मोबाइल फ़ोन आपके लिए परेशानी और कार्य में रुकावट का विषय बन जाता है। यह असुविधा इसलिए होती है क्योंकि आज के दिन में मनुष्य नें मोबाइल फ़ोन को एक निरंतर संचार का माध्यम बना दिया है।

2. गाड़ी चलाते समय धयान भंग Disturb You During Driving

लोग मोबाइल के उपयोग में इतने मग्न हो जाते हैं की गाड़ी चलते हुए भी मोबाइल फ़ोन में बात चित करते हैं। यह गलती या नुकसान भी ज्यादातर मोबाइल फ़ोन के निरंतर उपयोग के कारण होता है।

अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षित परिषद् के अनुसार अमेरिका में प्रति वर्ष 1.6 करोड़ से ज्यादा दुर्घटना गाड़ी चलाते समय मोबाइल फ़ोन पर बात करने के कारण होते हैं।

3. स्वास्थ पर बुरा प्रभाव Mobile Phone Health Problems in Hindi

वैसे तो अभी पूरी तरीके से मोबाइल फ़ोन टावर से होने वाले स्वास्थय पर बुरा प्रभाव के विषय में पूरी पृष्टि नहीं हो पाई है। किन्तु कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार मोबाइल फ़ोन टावर से कई प्रकार की स्वास्थय हानि हो सकती है जैसे ! कोशिकाओं में असामन्य वृद्धि, मस्तिस्क ट्यूमर, प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता में कमी, नींद में कमी और चिंता,  बच्चों में रक्त का कैंसर, बाँझपन और गर्भपात तथा अन्य कई प्रकार की स्वास्थय से जुडी हुए असुविधाएं।mobile phone radiation and health

4. समय की बर्बादी Time Waste

कुछ बच्चे मोबाइल फ़ोन की बुरी आदत लगा लेते है। वह मोबाइल फ़ोन पर लम्बें समय तक फ़ोन पर बात करते हैं, Games खेलते हैं, चित्र और विडियो देखते रहते हैं, सही मायने में अगर हम कहें तो समय की बर्बादी करते हैं।

5. गोपनीयता और सुरक्षा का उलंघन Release of Security and Personal Matters

आज का मनुष्य जब मोबाइल फ़ोन का उपयोग लोग दिन रात कर रहा है तो उसमे सभी अपनी गोपनीय जानकारियों को भी Save करते हैं। अगर हम उदाहण के तौर पर लें, सोचिये अगर आपका मोबाइल खो जाता जिसमे आपके बैंक अकाउंट से जुडी जानकारियां होती हैं, आपके मोबाइल फ़ोन में ऑनलाइन पासवर्ड हो या आपके अपने लोगों के मोबाइल नंबर हो, सब कुछ लोगों के सामने साँझा हो जायेगा।

इस तरीके की बातों को हम बहुत ही आसानी से लेते है जब की हमें ऐसी बातों में सतर्कता बनाये रखना चाहिए। अपराधी भी दूसरों के खोये हुए मोबाइल फ़ोनों की मदद से अपराधिक गतिविधियों से सुरक्षा का उलंघन करते हैं।

पुरे Points को पढ़ कर आपको क्या लगता है मोबाइल फ़ोन के नुकसान, फाएदों से कुछ ज्यादा ही हैं?

जी हाँ ! यह बात पूरी तरीके से सही है। मोबाइल फ़ोन से आपको लाभ कम और नुकसान ज्यादा है। आज जब आप मोबाइल फ़ोन के वरदान और अभिशाप के बारे में जान ही चुकें हैं, तो जितना हो सके अपने मोबाइल फ़ोन से दूर रहें तथा अपने मोबाइल फ़ोन उपयोग के समय को कम करें। अपने मोबाइल फ़ोन को छुने का भी ना सोचें जब आप गाड़ी या मोटर साइकिल चला रहें हों या रस्ते पर चल रहें हों। research phone

अगर आप को यह पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचार कमेंट्स या ईमेल के माध्यम से भेजना ना भूलें।

0 thoughts on “Essay On Mobile Phone In Hindi Wikipedia”

    -->

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *